युवराज सिंह ने एमएस धोनी और विराट कोहली से आगे सौरव गांगुली को सर्वश्रेष्ठ कप्तान चुना

भारतीय क्रिकेट के लीजेंड युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने मौजूदा भारतीय कप्तान विराट कोहली और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (M.S. Dhoni) पर निशाना साधा है। युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने कहा कि उन्हें इन दोनों कप्तानों से उतनी मदद नहीं मिली जितनी मिलनी चाहिए थी। उन्होंने ये भी कहा कि विराट कोहली और धोनी से ज्यादा सौरभ गांगुली (Sourav Gaungly ) ने मेरा साथ दिया।

स्पोर्टस्टार के साथ बातचीत में युवी ने कहा कि सौरभ गांगुली की कप्तानी में मैंने काफी मैच खेले हैं। अपनी कप्तानी के समय ने गांगुली ने मेरा काफी साथ दिया है। गांगुली के बाद धोनी आये, लेकिन उन्होंने मेरी ज्यादा मदद नहीं की। विराट कोहली से भी मुझे उस तरह का सपोर्ट नहीं मिला था। हालांकि युवी ने ये भी कहा कि ये चुनना मुश्किल है कि कौन अच्छा है।


युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने साल 2000 में खेली गई चैंपियंस ट्रॉफी में अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी और तब टीम इंडिया की कमान मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने संभाल रखी थी. ये मैच आस्ट्रेलिया के खिलाफ था. तब से लेकर युवराज सिंह ने राहुल द्रविड़, वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर, एमएस धोनी और विराट कोहली की कप्तानी में खेलना जारी रखा.

अपने करियर के शुरुआती दिनों को याद करते हुए युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने कहा, मैंने साल 2000 में शुरुआत की थी, तब कोई आईपीएल नहीं था. मैं अपने आदर्श खिलाड़ियों को टीवी पर देखता था और अचानक ही मुझे उनके साथ बैठने का मौका मिल गया. मेरे मन में उनके लिए बहुत सम्मान है और मैंने उनसे सीखा कि मीडिया से किस तरह बात करनी चाहिए. आपका व्यवहार कैसा होना चाहिए. मौजूदा वक्त में मुश्किल से ही कोई सीनियर खिलाड़ियों को गाइड करता है.

युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने भारत के लिए 304 वनडे खेले हैं, जिनमें से उन्होंने 110 सौरव गांगुली की कप्तानी में खेले. इसके बाद 104 मैच उन्होंने धोनी की कप्तानी में खेले. दिलचस्प बात है कि इन 104 मैचों में उन्होंने 37 की औसत से 3077 रन बनाए, जबकि गांगुली की कप्तानी में खेले गए 110 वनडे में युवी ने 30 की औसत से 2640 रन बनाए.

युवराज का मानना है कि मौजूदा समय में भारतीय क्रिकेट टीम को किसी ऐसे व्यक्ति की जरूरत है जोकि खिलाड़ियों के मैदान के बाहर के मुद्दों पर बात कर सके ताकि मैदान के अंदर खिलाड़ी अपने प्रदर्शन में सुधार कर सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *